इमरान को पकिस्तान की कमान मिलने से पहले उठा यह मुद्दा, दोबारा होंगे पाकिस्तान में चुनाव?

पकिस्तान में हाल ही में हुए आम चुनावों में भले ही इमरान खान की पार्टी सबसे आगे रही हो लेकिन बहुमत के आकडे से उनकी पार्टी कुछ सीट दूर रह गई। अब इमरान की पार्टी सरकार बनाने के बचे हुए तरीको पर काम कर रही है वही दूसरी ओर अन्य दल इस चुनाव में गड़बड़ी की आशंका जता रहे है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस्लामाबाद में विपक्षी दलों की बैठक हुई जिसमे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ की पार्टी पीएमएन (एन) शामिल हुई. लेकिन उस बैठक में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) नहीं शामिल हुई। इस बैठक में मुत्तहिदा मजलिस-ए-अमाल, अवामी नैशनल पार्टी, कौमी वतन पार्टी और पख्तूनख्वा मिली अवामी पार्टी, जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम जैसी राजनीतिक पार्टियां शामिल थीं। बैठक में विपक्षी दलो चुनाव में धांधली की आशंका जताई और दुबारा चुनाव कराने की मांग उठाई।

रिपोर्ट्स के अनुसार मुत्ताहिदा मजलिस-ए-अमाल (एमएमए) पार्टी के अध्यक्ष मौलाना फजलुर रहमान ने बैठक के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि ‘हम मांग करते हैं कि चुनाव दोबारा से कराए जाए और इसके लिए हम देशभर में प्रदर्शन करेंगे।’

ज्ञात रहे पकिस्तान में बुधवार 25 जुलाई को पूरे देश में आम चुनाव हुए थे और चुनाव ख़त्म होने के बाद शुरू हुई गिनती में वर्ल्डकप विजेता पकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान रहे इमरान खान की पार्टी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) आगे चल रही है। इमरान खान की पार्टी ने मुख्य प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज (पीएमएल – एन) को काफी पीछे छोड़ दिया है और अब बहुमत की ओर अग्रसर है।

आपको बता दें कि पकिस्तान में कुल 270 सीट पर चुनाव लड़े गये और बहुमत के लिए 137 सीटो पर बहुमत है। अभी तक सामने आये रुझानो के अनुसार पीटीआई को 119 सीटे पर बढ़त है वही पीएमएल – एन 61 सीटो पर, पीपीपी को 40 और अन्य को 50 सीटो पर बढ़त है। इन रुझानो को देख ऐसा तय माना जा रहा है कि पकिस्तान के अगले प्रधानमंत्री पीटीआई के इमरान खान ही होंगे।

खबरों के अनुसार कहा जा रहा था कि पीटीआई को पाकिस्तानी सेना का समर्थन प्राप्त है लेकिन पीटीआई प्रमुख ने इन बातो को सिरे से ख़ारिज किया है। यह चुनाव पाकिस्तानी अवाम के साथ साथ भारत के लिए भी ख़ास थे। जहां इस चुनाव के बाद बाद भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा विवाद और कई अटके हुए मामले सुलझने के कयास लगाए जा रहे है वही पाकिस्तानी अवाम इमरान खान में एक बदलाव देख रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *