देखें विडियो: इस मुस्लिम नेता ने लाइव डिबेट में कहा भाजपा का कोई दुश्मन है तो सिर्फ मुसलमान

एक मुस्लिम नेता ने कहा कि, बीजेपी हर मुसलमान को अपना दुश्मन समझती है। यह बात उन्होंने एनआरसी रिपोर्ट के संबंध में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही। दरअसल, एनआरसी की रिपोर्ट के अनुसार असम में 40 लाख लोग अवैध रूप से रह रहे हैं। हालांकि, यह फाइनल लिस्ट नहीं है और लोगों को सुधार का मौका दिया जाएगा, लेकिन इस बात का खुलासा होते ही सियासत तेज हो गई है। संसद में भी हंगामा हुआ है।

तमाम राजनीतिक दल अपने-अपने हिसाब से इसे परिभाषित कर रहे हैं। कुछ इसे धार्मिक लिहाज से परिभाषित करते हुए मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तो यहां तक दिया कि आगामी चुनाव को लेकर वोट बैंक की राजनीति करने के लिए ऐसा हो रहा है। मल्लिकार्जुन खड़के ने बोला कि देश व समाज को बांटा जा रहा है।

इन्हीं मुद्दो को लेकर न्यूज 18 इंडिया के डिबेट शो ‘आर-पार’ में ‘वोट के लिए देश को किसने बनाया धर्मशाला’ विषय पर लाइव डिबेट हुआ। इस विषय पर बात करते हुए एआइयूडीएफ के अध्यक्ष बदरुद्दीन अजमल ने कहा कि बीजेपी का पूरा बैकग्राउंड ही आरएसएस और बीएचपी है। इसमें तो कोई डाउट ही नहीं है कि उन दोनों का पूरी दुनिया में कोई दुश्मन है तो वह मुसलमान है। वो हर मुसलमान को दुश्मन समझते हैं।

उन्हाेंने डिबेट के दौरान कहा कि, एनआरसी रिपोर्ट में घुसपैठियों की बात है। लेकिन, ऑल इंडिया लेवल पर जो दिखाया और बताया जा रहा है, इससे लोग यह समझ रहे हैं कि कि यहां करोड़ों की संख्या में बांग्लादेशी मुसलमान आकर बस गए हैं। मैंने खुद संसद में कहा कि, हमारे माथे से इस कलंक को धोइये। इस समस्या का सामाधान होना चाहिए। 40 सालों से हमारी यह मांग थी कि एनआरसी बनना चाहिए। दूध का दूध और पानी का पानी होना चाहिए। हमने धर्म के उपर कोई सवाल नहीं उठाए।जो भी घुसपैठिए कोई आ रहा है, उसे बाहर करना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि, हिंदू और मुसलमान का ममला भाजपा के एक विधायक की वजह से हो रहा है। हमनें इसकी शिकायत गृह मंत्रालय से भी की। यदि किसी अन्य पार्टी का विधायक ऐसा करता है तो उसे ऐसा करने से मना किया जाता है। लेकिन भाजपा के विधायक खुलेआम हिंदू-मुस्लिम कर रहे हैं और शिकायत के बावजूद किसी तरह की कार्रवाई नहीं हो रही है।

https://hindi.news18.com/videos/shows/aar-paar-who-made-the-country-as-dharma-shala-for-vote-1464522.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *