मध्यप्रदेश चुनाव से पहले इस सर्वे ने उड़ाई भाजपा की नींद, कांग्रेस के ऐसा करने पर पलट जाएगी सरकार

मध्य प्रदेश में इस वर्ष के अंत में विधानसभा चुनाव होने और अगले वर्ष लोकसभा चुनाव होने है। ऐसे में राज्य और केंद्र में सत्ताधारी भाजपा और विपक्ष में विराजमान कांग्रेस दोनों ने ही चुनाव में पूरा दमखम झोंक दिया है और दोनों ही दल तैय्यारी में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते है। अब इस चुनाव से जुड़ा हुआ एक सर्वे सामने आ रहा है जिसमे कई चौकाने वाले खुलासे हो रहे है।

दरअसल तमिलनाडु की मीडिया कंपनी ‘स्पिक मीडिया नेटवर्क’ ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले एक सर्वे कराया है। इस सर्वे के अनुसार राज्य की 230 विधानसभा सीटो में भाजपा को 43.52% वोट शेयर के साथ 147 सीटे, कांग्रेस को 40.77% वोट शेयर के साथ 73 सीटे, बसपा को 12.37% वोट शेयर के साथ 9 सीटे और अन्य को 3.34% वोट शेयर के साथ केवल 1 सीट मिलने का अनुमान है।

वही अगर कांग्रेस और बसपा गठबंधन कर चुनाव में उतरती है तो भाजपा को थोड़ा नुक्सान और गठबंधन को थोडा फ़ायदा होगा लेकिन गठबंधन फिर भी भाजपा को रोकने में विफल होता दिख रहा है। सर्वे के अनुसार गठबंधन के बाद भाजपा के वोट शेयर में बढौतरी होती दिख रही है और यह बढ़कर 45.79% हो जाएगा वही वोट शेयर बढ़ने के बावजूद भाजपा को सीटो का नुक्सान होता दिख रहा है और यह घटकर केवल 126 रह जाएंगी। वही कांग्रेस और बसपा के साथ आने पर गठबंधन का वोट शेयर 48.37% रहने का अनुमान है वही सीटो में बढौतरी होकर 103 होने का अनुमान है. अन्य की बात करे तो उन्हें गठबंधन का ख़ासा असर नहीं पड़ेगा और उनकी सीट केवल एक ही रहने का अनुमान है।

वही अगर बात करे अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव् की तो इसमें भाजपा को सबसे ज्यादा 19 सीटे, कांग्रेस को 7 सीटे, बसपा को 1, अन्य को कोई सीट नहीं मिलने का अनुमान है। वही अगर यूपीए गठबंधन मैदान में आता है तो भाजपा को तीन सीटो का नुक्सान होता दिख रहा है और भाजपा की सीटे केवल 16 रह जाएंगी। वही यूपीए गठबंधन (कांग्रेस-बसपा) को 13 सीटे मिलती दिख रही है।

मतलब साफ़ है कि अगर कांग्रेस ने बसपा के साथ गठबंधन नहीं किया तो राज्य में भाजपा लगातार चौथी बार सरकार बनाने की स्थिति में है और अगर कांग्रेस ने गठबंधन कर लिया तो भाजपा की चिंताए बढ़ सकती है और चुनावी परिणाम कुछ और हो सकता है। वही भाजपा खेमे में इस सर्वे को देख एक ख़ुशी की लहर दौड़ी होगी क्युकी दोनों ही सूरतो में भाजपा गठबंधन और अकेली कांग्रेस से आगे है, भले ही फासला कम क्यों न हो। अब चुनाव में क्या होगा यह तो समय ही बताएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *