ज़मीन से 45 फीट नीचे हुआ ‘ऑपरेशन’, 30 घंटे की मशक्कत के बाद तीन साल की सना की बचाई जान

बिहार में आखिरकार सना की जान बचा ली गई। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के दल ने करीब 30 घंटे की मशक्कत के बाद तीन साल की बच्ची को बचाने में सफलता हासिल कर। मालूम हो यह बच्ची सना बोरवेल में गिर गई थी। सना को बोरवेल से निकालने के लिए जिला प्रशासन, एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की तरफ से युद्ध स्तर पर बचाव अभियान चलाया गया। यह अभियान मंगलवार रात से ही चल रहा था।

बचाव कार्य में सबसे बड़ा खतरा बारिश और गिली मिट्टी से था. इस वजह से बचाव मे देरी हो रही थी। बच्ची को बचाने के लिए पहले एसडीआरएफ की टीम वहां मौजूद थी। बाद में वहां इस अभियान में एनडीआरएफ की टीम भी शामिल हो गई। बुधवार को वहां तेज बारिश शुरू हो गई थी, जिससे बचाव कार्य में बाधा आ रही थी।

जमीन से 45 फुट नीचे 'ऑपरेशन', ऐसे बचाई गई 3 साल की सना

प्रशासन को इस घटना की जानकारी मंगलवार शाम को मिली थी। शाम 3 बजे के आसपास सना इस बोरवेल में गिर गई थी। इसके बाद घटनास्थल पर एंबुलेंस बुला ली गई थी। आसपास के क्षेत्र की बिजली काट दी गई।

सना तक पहुंचने के दौरान बारिश के कारण गीली मिट्टी से गड्ढा खोदने में दिक्कत आ रही थी। आसपास के इलाके को कवर करने के लिए टेंट और तिरपाल मंगा लिया गया था। साथ ही आसपास खड़े वाहनों को भी वहां से हटा दिया गया था। पूरे मामले में मुंगेर एसपी नजर बनाए रहे थे। बचाव टीम ने सना को पानी पिलाया और खाने के लिए चॉकलेट भी दी। गड्ढ में उसका पांव फंसा हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *