Home > उत्तर प्रदेश > वाराणसी पुल हादसे पर बोली मायावती, भाजपा नेता अपने बयानों में सस्ती मानसिकता दिखाना बंद करे

वाराणसी पुल हादसे पर बोली मायावती, भाजपा नेता अपने बयानों में सस्ती मानसिकता दिखाना बंद करे

mayawati

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में चलते ट्रैफिक के दौरान् निर्माणाधीन बड़े पुल का एक बड़ा हिस्सा गिर जाने से कल 18 लोगों की मौत तथा 30 से अधिक लोगों के घायल होने पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने गहरा दुःख व आक्रोश व्यक्त किया है।

मायावती ने कहा कि अत्यन्त ही गम्भीर व आपराधिक लापरवाही के इस मामले को सरकार को हल्केपन से नहीं लेना चाहिये तथा इस घटना की तुरन्त ही उच्च-स्तरीय जाँच कराकर दोषियों को कड़ी-से-कड़ी सज़ा देने व दिलाना भी सुनिश्चित करना चाहिये ताकि ऐसी दर्दनाक घटनाओं को दोबारा होने से रोका जा सके।

भाजपा नेताओं पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि घोर आपराधिक लापरवाही आदि के ऐसे संगीन मामलों में बीजेपी के शीर्ष नेताओं द्वारा सस्ती मानसिकता दिखाकर केवल ’’मन पर बोझ’’ बता देने से जिम्मेदारी से मुक्ति पा लेने का प्रयास सही नहीं है बल्कि इसके लिये कुछ ठोस सुधारात्मक कार्रवाई व उपाय भी करने की सख़्त जरूरत है।

मायावती ने कहा कि अक्सर यही देखा गया है कि सरकार पीड़ित परिवारों व घायलों आदि को अनुग्रह राशि आदि देकर अपने आपको जिम्मेदारी से मुक्त समझ लेती है जबकि इसके साथ-साथ सरकार का असली कर्तव्य है कि वह दोषियों की पहचान करके सजा सुनिश्चित करे ताकि घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो।

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होने के कारण ही प्रदेश में एक-के-बाद-एक लगातार गम्भीर आपराधिक घटनायें होती चली जा रही हैं। वास्तव में यही बुरा व गै़र-जिम्मेदारी का हाल अपराध नियन्त्रण व कानून-व्यवस्था के मामले में भी प्रदेश बीजेपी सरकार का बना हुआ है जिस कारण प्रदेश में जमीनी स्तर पर हर तरफ हिंसा, अराजकता व जंगलराज जैसे माहौल है। केवल बीजेपी के मंत्री व इनके नेताओं के बयानों में ही लोगों को हसीन सपने दिखाये जाने के प्रयास किये जाते हैं।

Leave a Reply